Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा

सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा
छुपा के काँटों को गुलाब में कौन रखेगा ।।

कर लेगें वसूल मुझ को इक इक साँस से
बता दो मेरे आँसू , हिसाब में कौन रखेगा ।।

जब से टूटी है मैं इक रात भी सोया नहीं
बेघर हूँ मैं सजा के ख्वाब में कौन रखेगा ।।

जख्मे दिल की ही मिली है शोहरत मुझे
किमत दे कर मेरी,हिजाब में कौन रखेगा ।।

कुछ मौजे है जो बहुत प्यासी है मुझ मे
मिला के मुझ को शराब में कौन रखेगा ।।

पढ़ कर फेंक देंगे लोग इधर – उधर मुझे
नाम मेरा किसी ,खिताब में कौन रखेगा ।।

ले गये तुम चुरा के मुझे कोई पूछेगा तो
‘पुरव’ कौन है मुझे जवाब में कौन रखेगा ।।

262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वयम् संयम
वयम् संयम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
💐प्रेम कौतुक-468💐
💐प्रेम कौतुक-468💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*Author प्रणय प्रभात*
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
खुद को भी
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
Swara Kumari arya
आज काल के नेता और उनके बेटा
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुमको मिले जो गम तो हमें कम नहीं मिले
तुमको मिले जो गम तो हमें कम नहीं मिले
हरवंश हृदय
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का झटकना
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का झटकना
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Shyam Sundar Subramanian
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
एक हरे भरे गुलशन का सपना
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...