Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 2 min read

*समीक्षकों के चक्कर में( हास्य व्यंग्य)*

समीक्षकों के चक्कर में( हास्य व्यंग्य)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
हम एक बार समीक्षकों के चक्कर में फँस गए । हुआ यह कि हमने एक गद्य की कुछ पंक्तियां लिखकर समीक्षा के लिए प्रस्तुत की थीं। पंक्तियां इस प्रकार थीं :-
“हम सड़क पर जा रहे थे । रास्ते में एक कुत्ता भौंका । उसने हमें काटा । फिर हमने चौदह इंजेक्शन लगवाए।”

समीक्षा के लिए गद्य जैसे ही पटल पर प्रस्तुत हुआ ,समीक्षक उस पर टूट पड़े । एक समीक्षक ने लिखा:- “हम सड़क पर जा रहे थे । इसमें से _सड़क पर_ लिखने की आवश्यकता नहीं है । जब आप जा रहे थे तो सड़क पर ही जाएंगे। हमने उनकी बात मान कर गद्य में से _सड़क पर_ शब्द हटा दिए।
एक दूसरे समीक्षक ने हमें राय दी जब आप सड़क पर जा रहे थे तो _रास्ते में_ तो स्वयं होंगे । अतः _रास्ते में_ लिखना अनावश्यक है । उनकी राय मानकर हमने अपने गद्य में से _रास्ते में_ शब्द भी हटा दिया ।
एक तीसरे समीक्षक ने कहा कि _कुत्ता_ और _भौंका_ यह दोनों शब्द साथ-साथ लिखना ठीक नहीं लगता । जब कुत्ता है तो भौंकेगा और अगर भौंका है तो वह कुत्ता ही होगा । बिल्ली या चूहा तो भौंकता नहीं है। अतः दोनों में से कोई एक शब्द हटाना पड़ेगा। हमने पूछा “किसे हटाएँ ?” वह बोले _कुत्ता_ हटा दो । हमने _कुत्ता_ हटा दिया।
एक अन्य समीक्षक ने हमें समझाया कि बंधु विचार कीजिए । जब कुत्ता भौंका तो किसने काटा ? कुत्ते ने ही तो काटा ? अर्थात जो भौंकता है ,वही तो काटता है । आपने क्यों लिखा कि _उसने_ हमें काटा ? _उसने_ शब्द की आवश्यकता नहीं है । हमने तुरंत _उसने_ शब्द भी हटा दिया ।
फिर एक अन्य राय आई कि _हमें काटा_ की आवश्यकता क्यों पड़ रही है ? जब आप सड़क पर जा रहे हैं और कुत्ते ने काटा है तो स्वाभाविक है कि आपको ही काटा होगा । आप यह क्यों लिख रहे हैं कि _हमें_ काटा ? _हमें_ शब्द हटा दीजिए । हमने हमें शब्द भी हटा दिया ।
समीक्षा अभी समाप्त नहीं हुई थी । एक समीक्षक का विचार था । _फिर हमने_ चौदह इंजेक्शन लगवाए ,इसमें से _फिर हमने_ शब्द भी हटाना चाहिए क्योंकि जब कुत्ते ने काट लिया ,उसके बाद ही तो इंजेक्शन लगे । अतः _फिर_ शब्द की आवश्यकता नहीं है । इसके अतिरिक्त जिसको काटा गया ,उसने ही इंजेक्शन लगवाए होंगे । अतः _हमने_ शब्द की भी कोई जरूरत नहीं बैठ रही है । केवल इतना लिखना पर्याप्त है कि चौदह इंजेक्शन लगवाए ।
समस्त समीक्षकों के सुझावों को सिरमाथे लगाने के बाद हमारा गद्य कुछ इस प्रकार बना :-
“हम जा रहे थे भौंका काटा चौदह इंजेक्शन लगे।”
पढ़कर एक पाठक ने कहा :- “महोदय, जो आप कहना चाहते हैं ,उसे स्पष्ट रूप से कहिए । गुप्त संकेतो से गद्य नहीं लिखा जा सकता।”
उस समय सारे समीक्षक समीक्षा निबटा कर चले गए थे। हमारी समझ में नहीं आ रहा था कि अब हम क्या करें ?
—————————————————-
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
चांदनी रात
चांदनी रात
Mahender Singh
🌷 चंद अश'आर 🌷
🌷 चंद अश'आर 🌷
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
🙅आम सूचना🙅
🙅आम सूचना🙅
*Author प्रणय प्रभात*
इंसान ऐसा ही होता है
इंसान ऐसा ही होता है
Mamta Singh Devaa
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-473💐
💐प्रेम कौतुक-473💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
Manoj Mahato
प्यार करो
प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
Loading...