Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

समाधान ढूंढने निकलो तो

समाधान ढूंढने निकलो तो
समस्याएं मिलती हैं
समस्याओं में समाधान ढूंढना
मुश्किल लगता है
वैसे समस्या और समाधान,
सुख और दुःख यह तभी तक ही मिलते हैं
जबतक हम जीवित रहते हैं
अर्थात् आप जीवित हैं इसीलिए
मरना ज़रूरी नहीं है बल्कि
मर मर कर कुछ अपने लिए
कुछ अपनों के लिए
जीवित रहना ज़रूरी है
_ सोनम पुनीत दुबे

2 Likes · 23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sonam Puneet Dubey
View all
You may also like:
ग्रहस्थी
ग्रहस्थी
Bodhisatva kastooriya
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr .Shweta sood 'Madhu'
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
आज की हकीकत
आज की हकीकत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
Manisha Manjari
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
.
.
*प्रणय प्रभात*
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
पूर्वार्थ
इश्क था तो शिकवा शिकायत थी,
इश्क था तो शिकवा शिकायत थी,
Befikr Lafz
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
* फूल खिले हैं *
* फूल खिले हैं *
surenderpal vaidya
मैं उस बस्ती में ठहरी हूँ जहाँ पर..
मैं उस बस्ती में ठहरी हूँ जहाँ पर..
Shweta Soni
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
शेखर सिंह
Loading...