Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

समाचार पत्र

समाचार पत्र हमारे घर रोज आता है,
अपने साथ ढेरों खबरे लाता है।
देश दुनियां की सारी खबरे हमें देता है,
छोटी हो या बड़ी सारी खबरों को लता है।
अख़बार हमें देश दुनिया से ,
जोड़ने वाली कड़ी होती है।
यह हमें राजनितिक सामाजिक,
मुद्दों की जानकारी देती है।
अखबार हमें संस्कृति और ,
परम्पराओं से जोड़े रखता है।
   प्रभात खबर  मे होता है
जो बाल प्रभात
उसमें बहुत सारी ज्ञान  होती है,
कविता कहानियां  पहेली चुटकुले,
सभी होते मिले जुले।
   बाल प्रभात  बच्चों के
कविता और कहानियों को
दरसाने का माध्यम है।
इसमें बच्चों की कलाओं को,
उभारा जाता है।
उन्हें कुछ करने के लिए प्रोत्साहित,
किया जाता है।
इसमें कविताओं को बहुत,
अच्छे से दरसाया जाता है
सभी बच्चों के मन को भाता है।

              नाम-ममता रानी, राधानगर(बाँका)

Language: Hindi
3 Likes · 2319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
अनूप अम्बर
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
3145.*पूर्णिका*
3145.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
शेर बेशक़ सुना रही हूँ मैं
Shweta Soni
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
मां जब मैं रोजगार पाऊंगा।
Rj Anand Prajapati
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
मुरझाए चेहरे फिर खिलेंगे, तू वक्त तो दे उसे
Chandra Kanta Shaw
अर्पण है...
अर्पण है...
Er. Sanjay Shrivastava
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
Vishal babu (vishu)
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
💐प्रेम कौतुक-539💐
💐प्रेम कौतुक-539💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Sakshi Tripathi
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
एतमाद नहीं करते
एतमाद नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
Loading...