Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2017 · 1 min read

समय

समय धन है,
और संसार का मूल्यवान भी
‘धन’ समय को नहीं खरीद सकता
पर ‘समय’-
धन का सृजन कर सकता है.
धन की नियति है
वह लौट सकता है
पर समय-
कहाँ लौट के आता ?
अस्तु,
समय रहते समय को पहचाने
इसे मान दें,
स्थान दें,
और अपने जीवन को
समय के साथ प्रवाहमय होने दें
यह समय है-
जो आपको बनाएगा
आपके प्रति पल के प्रयासों
और प्रयत्नों,
का लेखा
समय के पास है
और यही
आपको प्रतिष्ठित करेगा
शीर्ष पर
उसी अनुपात में
जिस अनुपात में
‘समय’ के साथ की है
साझेदारी.

Language: Hindi
1 Like · 571 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
हँसी
हँसी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
प्रेम अटूट है
प्रेम अटूट है
Dr. Kishan tandon kranti
हजारों  रंग  दुनिया  में
हजारों रंग दुनिया में
shabina. Naaz
“मेरी कविता का सफरनामा ”
“मेरी कविता का सफरनामा ”
DrLakshman Jha Parimal
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-536💐
💐प्रेम कौतुक-536💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"होली है आई रे"
Rahul Singh
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
Loading...