Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्

समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्थ ना करें।जैसे है वैसे ही बने रहने की कोशिश करें।🙏⭐✨🌟🌹 जय श्री कृष्णा

343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"फिकर से जंग"
Dr. Kishan tandon kranti
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
3056.*पूर्णिका*
3056.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़
Dr fauzia Naseem shad
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
मतलबी ज़माना है.
मतलबी ज़माना है.
शेखर सिंह
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुद की एक पहचान बनाओ
खुद की एक पहचान बनाओ
Vandna Thakur
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-434💐
💐प्रेम कौतुक-434💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
■ व्हीआईपी कल्चर तो प्रधान सेवक जी ने ख़त्म करा दिया था ना...
*Author प्रणय प्रभात*
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
*मौत सभी को गले लगाती (हिंदी गजल/गीतिका)*
*मौत सभी को गले लगाती (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
Loading...