Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*

समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)
_______________________
समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना
पराजित क्षण अगर हो तो, अधिक संत्रास मत करना
बदलते मौसमों की भॉंति, सुख-दुख भी विचरते हैं
मिलो इनसे मगर इनमें, कभी भी वास मत करना
_________________________
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
Passion for life
Passion for life
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*प्रणय प्रभात*
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
पेड़ और ऑक्सीजन
पेड़ और ऑक्सीजन
विजय कुमार अग्रवाल
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
"यायावरी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
*होली: कुछ दोहे*
*होली: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
मैं तो महज प्रेमिका हूँ
VINOD CHAUHAN
"विश्ववन्दनीय"
Dr. Kishan tandon kranti
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
पूर्वार्थ
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...