Oct 6, 2016 · 1 min read

समझ सकें यदि मर्म…: छंद कुण्डलिया

दुविधा में चन्दा बहुत, कैसे कह दे मर्म.
रहे प्रकाशित सूर्य से, सत्य सनातन धर्म.
सत्य सनातन धर्म, उसी से सब हैं जन्में.
हाय! बँट गए पंथ, द्वेष उपजा क्यों मन में?
सब हैं एक समान, सभी पाते सुख-सुविधा.
समझ सकें यदि मर्म, दूर होगी हर दुविधा..

छंदकार:–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

110 Views
You may also like:
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H.
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H.
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
नवगीत -
Mahendra Narayan
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
मतदान का दौर
Anamika Singh
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
The Magical Darkness
Manisha Manjari
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार
Swami Ganganiya
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...