Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

समझ सकें यदि मर्म…: छंद कुण्डलिया

दुविधा में चन्दा बहुत, कैसे कह दे मर्म.
रहे प्रकाशित सूर्य से, सत्य सनातन धर्म.
सत्य सनातन धर्म, उसी से सब हैं जन्में.
हाय! बँट गए पंथ, द्वेष उपजा क्यों मन में?
सब हैं एक समान, सभी पाते सुख-सुविधा.
समझ सकें यदि मर्म, दूर होगी हर दुविधा..

छंदकार:–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भगवान श्री परशुराम जयंती
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh Manu
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
हम आम से खास हुए हैं।
हम आम से खास हुए हैं।
Taj Mohammad
अमीर
अमीर
Punam Pande
राम-राज्य
राम-राज्य
Shekhar Chandra Mitra
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
विजय कुमार अग्रवाल
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
"आखिर क्यों?"
Dr. Kishan tandon kranti
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शादी   (कुंडलिया)
शादी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
7…अमृत ध्वनि छन्द
7…अमृत ध्वनि छन्द
Rambali Mishra
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
Loading...