Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

*समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】*

समझो मिट्टी यह जगत, यह संसार असार 【कुंडलिया】
■■■■■■■■■■■■■■■■
गाड़ी कोठी बंगला , भरा स्वर्ण – भंडार
समझो मिट्टी यह जगत ,यह संसार असार
यह संसार असार ,वस्तुएँ आती – जातीं
बदले केवल रूप ,बदलते मालिक पातीं
कहते रवि कविराय ,सूट पहनो या साड़ी
कफन डालकर एक ,देह ले जाती गाड़ी
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
असार = सारहीन ,व्यर्थ ,मिथ्या , माया

1 Like · 221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"लोकतंत्र के मंदिर" में
*प्रणय प्रभात*
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
*ट्रस्टीशिप : सनातन वैराग्य दर्शन का कालजयी विचार*
*ट्रस्टीशिप : सनातन वैराग्य दर्शन का कालजयी विचार*
Ravi Prakash
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
🌹पत्नी🌹
🌹पत्नी🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
कविता
कविता
Shiva Awasthi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
गिल्ट
गिल्ट
आकांक्षा राय
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
"फेड्डल और अव्वल"
Dr. Kishan tandon kranti
इस प्रथ्वी पर जितना अधिकार मनुष्य का है
इस प्रथ्वी पर जितना अधिकार मनुष्य का है
Sonam Puneet Dubey
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
शेखर सिंह
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
हर किसी में आम हो गयी है।
हर किसी में आम हो गयी है।
Taj Mohammad
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
हिम्मत वाली प्रेमी प्रेमिका पति पत्नी बनतेहै,
हिम्मत वाली प्रेमी प्रेमिका पति पत्नी बनतेहै,
पूर्वार्थ
Loading...