Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 2 min read

समझदारी – कहानी

एक जंगल में गधों का एक झुंड रहता था l इन सबके बीच एक गधा था चुन्नू | चुन्नू एक साधारण गधा था | वह ज्यादा दिमाग नहीं लगाता था | किसी भी काम को करने में | इसी वजह से वह बहुत से काम ठीक से नहीं कर पाता था | इस पर बाकी गधे उसका मजाक उड़ाया करते थे | समय बीतता गया | चुन्नू का गधापन उस पर हावी होता गया | और एक दिन वह भी आया जब चुन्नू को खुद से भी चिढ़ होने लगी |
चुन्नू के माता – पिता इस बात को लेकर चिंचित थे कि चुन्नू समझधार कब होगा | और जंगल के जीव उसका मजाक उड़ाना कब बंद करेंगे | वे दोनों चुन्नू के लिए भगवान् से प्रार्थना करते थे | एक दिन उन दोनों के समक्ष एक महात्मा प्रकट हुए | और पूछा – तुम दोनों इतने चिंचित क्यों हो ? इसका कारण मुझे बताओ | तो चुन्नू के माता – पिता ने सारी बातें महात्मा जी को बता दी | तब महात्मा जी ने उनसे कहा कि एक काम करो | यहाँ से दूर पूर्व दिशा में एक आश्रम है | उस आश्रम में चुन्नू को भेज दो और उसे वहां शिक्षा ग्रहण करने दो | इसमें करीब तीन माह का समय लगेगा | पर यह बात तुम जंगल में किसी को नहीं बताना वरना लोग तुम पर हँसेंगे |
चुन्नू के माता – पिता चुन्नू को लेकर दूर आश्रम में भरे मन से चुन्नू को छोड़ आते हैं | आश्रम में चुन्नू को काम को करने के तरीके के साथ – साथ सही निर्णय किस तरह लिया जाता है इस सब बातों का प्रशिक्षण दिया जाता है | चुन्नू आश्रम के सभी नियमों का पूर्णतः पालन करता है और धीरे = धीरे सभी कार्यों में पारंगत हो जाता है | कार्यों के प्रति उसकी लगन देख आश्रम के संत महाराज बहुत खुश होते हैं | और करीब तीन माह बाद चुन्नू को वापस उसके घर भेज देते हैं | चुन्नू का चिड़चिड़ापन ख़त्म हो जाता है |
चुन्नू के जाने के बाद जंगल के जीव चुन्नू के माता – पिता से चुन्नू को जंगल में न होने की वजह बार – बार पूछते हैं | पर चुन्नू के माता – पिता चुप्पी साध लेते हैं और महात्मा जी की बात को ध्यान में रखते हुए किसी को सच नहीं बताते | इधर तीन माह बाद चुन्नू वापस जंगल आ जाता है | सभी उससे तीन महीने घर से दूर रहने की बात पूछते हैं | पर वह कुछ नहीं बताता | चुन्नू सारे काम ठीक से करने लगता है और साथ ही जंगल के दूसरे जीवों को भी काम ठीक तरह से किस प्रकार किया जाए यह समझाने लगता है | धीरे – धीरे चुन्नू की ख्याति बढ़ने लगती है | आसपास के जंगल से भी जानवर अब चुन्नू से राय लेने आने लगते है | चुन्नू में असाधारण परिवर्तन देख जंगल के सभी जीव चुन्नू को “जंगल का सलाहकार” पद से सम्मानित करते हैं | चुन्नू के माता – पिता चुन्नू को सम्मानित देख खुश होते हैं |

Language: Hindi
Tag: कहानी
3 Likes · 73 Views
You may also like:
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
जागो।
Anil Mishra Prahari
*पुराना फोटो(बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
बैठ पास तू पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
चांद
Annu Gurjar
करके तो कुछ दिखला ना
कवि दीपक बवेजा
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईशनिंदा
Shekhar Chandra Mitra
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दोहा
नवल किशोर सिंह
मेरा दिल क्यो मचल रहा है
Ram Krishan Rastogi
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
वो इश्क याद आता है
N.ksahu0007@writer
हीरा बा
मृत्युंजय कुमार
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
मेरी बनारस यात्रा
विनोद सिल्ला
वज्रमणि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
*if my identity is lost
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
भूला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...