Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 2 min read

समझदारी – कहानी

एक जंगल में गधों का एक झुंड रहता था l इन सबके बीच एक गधा था चुन्नू | चुन्नू एक साधारण गधा था | वह ज्यादा दिमाग नहीं लगाता था | किसी भी काम को करने में | इसी वजह से वह बहुत से काम ठीक से नहीं कर पाता था | इस पर बाकी गधे उसका मजाक उड़ाया करते थे | समय बीतता गया | चुन्नू का गधापन उस पर हावी होता गया | और एक दिन वह भी आया जब चुन्नू को खुद से भी चिढ़ होने लगी |
चुन्नू के माता – पिता इस बात को लेकर चिंचित थे कि चुन्नू समझधार कब होगा | और जंगल के जीव उसका मजाक उड़ाना कब बंद करेंगे | वे दोनों चुन्नू के लिए भगवान् से प्रार्थना करते थे | एक दिन उन दोनों के समक्ष एक महात्मा प्रकट हुए | और पूछा – तुम दोनों इतने चिंचित क्यों हो ? इसका कारण मुझे बताओ | तो चुन्नू के माता – पिता ने सारी बातें महात्मा जी को बता दी | तब महात्मा जी ने उनसे कहा कि एक काम करो | यहाँ से दूर पूर्व दिशा में एक आश्रम है | उस आश्रम में चुन्नू को भेज दो और उसे वहां शिक्षा ग्रहण करने दो | इसमें करीब तीन माह का समय लगेगा | पर यह बात तुम जंगल में किसी को नहीं बताना वरना लोग तुम पर हँसेंगे |
चुन्नू के माता – पिता चुन्नू को लेकर दूर आश्रम में भरे मन से चुन्नू को छोड़ आते हैं | आश्रम में चुन्नू को काम को करने के तरीके के साथ – साथ सही निर्णय किस तरह लिया जाता है इस सब बातों का प्रशिक्षण दिया जाता है | चुन्नू आश्रम के सभी नियमों का पूर्णतः पालन करता है और धीरे = धीरे सभी कार्यों में पारंगत हो जाता है | कार्यों के प्रति उसकी लगन देख आश्रम के संत महाराज बहुत खुश होते हैं | और करीब तीन माह बाद चुन्नू को वापस उसके घर भेज देते हैं | चुन्नू का चिड़चिड़ापन ख़त्म हो जाता है |
चुन्नू के जाने के बाद जंगल के जीव चुन्नू के माता – पिता से चुन्नू को जंगल में न होने की वजह बार – बार पूछते हैं | पर चुन्नू के माता – पिता चुप्पी साध लेते हैं और महात्मा जी की बात को ध्यान में रखते हुए किसी को सच नहीं बताते | इधर तीन माह बाद चुन्नू वापस जंगल आ जाता है | सभी उससे तीन महीने घर से दूर रहने की बात पूछते हैं | पर वह कुछ नहीं बताता | चुन्नू सारे काम ठीक से करने लगता है और साथ ही जंगल के दूसरे जीवों को भी काम ठीक तरह से किस प्रकार किया जाए यह समझाने लगता है | धीरे – धीरे चुन्नू की ख्याति बढ़ने लगती है | आसपास के जंगल से भी जानवर अब चुन्नू से राय लेने आने लगते है | चुन्नू में असाधारण परिवर्तन देख जंगल के सभी जीव चुन्नू को “जंगल का सलाहकार” पद से सम्मानित करते हैं | चुन्नू के माता – पिता चुन्नू को सम्मानित देख खुश होते हैं |

Language: Hindi
5 Likes · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
भले उधार सही
भले उधार सही
Satish Srijan
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
★ बचपन और बारिश...
★ बचपन और बारिश...
*Author प्रणय प्रभात*
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
रंगों  में   यूँ  प्रेम   को   ऐसे   डालो   यार ।
रंगों में यूँ प्रेम को ऐसे डालो यार ।
Vijay kumar Pandey
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
*दुर्गा अंबे रानी, पधारो लेकर नन्हे पॉंव (गीत)*
*दुर्गा अंबे रानी, पधारो लेकर नन्हे पॉंव (गीत)*
Ravi Prakash
"रियायत"
Dr. Kishan tandon kranti
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...