Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,

सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
मैं हूं इंसान किसकी आस करूं।।

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
बुंदेली दोहे- रमतूला
बुंदेली दोहे- रमतूला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
अप्प दीपो भव
अप्प दीपो भव
Shekhar Chandra Mitra
#दोहा :-
#दोहा :-
*Author प्रणय प्रभात*
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Adhere kone ko roshan karke
Adhere kone ko roshan karke
Sakshi Tripathi
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
मेहनत और अभ्यास
मेहनत और अभ्यास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी
नारी
Nitesh Shah
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
दीवानी कान्हा की
दीवानी कान्हा की
rajesh Purohit
*शिक्षक जी को नमन हमारा (बाल कविता)*
*शिक्षक जी को नमन हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चाहे तुम
चाहे तुम
Shweta Soni
3260.*पूर्णिका*
3260.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
umesh mehra
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
Loading...