Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*

सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)
➖➖➖➖➖➖➖➖
1)
सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है
गृहस्थी में लचीलापन, नहीं है तो अधूरी है
2)
सदा जिद पर ही अड़ने से, समस्याऍं जटिल होंगी
गृहस्थी में रखो सम्मान, सबका तब ही पूरी है
3)
जो हारा जानकर खुद ही, समझिएगा विजेता वह
गृहस्थी में वही जीता, विजय से जिसकी दूरी है
4)
गृहस्थी सिर्फ काले-श्वेत, रंगों से नहीं बनती
गृहस्थी अटपटी है वस्तु, यह दिखने में भूरी है
5)
गृहस्थी हर समय चाबुक, चलाने से नहीं चलती
गृहस्थी में कभी करना, जरूरी जी-हजूरी है
➖➖➖➖➖➖➖➖
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*अध्याय 11*
*अध्याय 11*
Ravi Prakash
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
श्याम सिंह बिष्ट
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
Phool gufran
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
बिहार के मूर्द्धन्य द्विज लेखकों के विभाजित साहित्य सरोकार
Dr MusafiR BaithA
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
"फ़ानी दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
😟 आज की कुंडली :--
😟 आज की कुंडली :--
*Author प्रणय प्रभात*
नफ़रत
नफ़रत
विजय कुमार अग्रवाल
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
कर्ज का बिल
कर्ज का बिल
Buddha Prakash
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
विषय -घर
विषय -घर
rekha mohan
💐प्रेम कौतुक-536💐
💐प्रेम कौतुक-536💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...