Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2016 · 1 min read

सब तुझ पर बार दूँ अपना तन मन सब तुझ…

सब तुझ पर बार दूँ

अपना तन मन सब तुझ पर बार दू.
अपनी ममता का आंचल पसार दू.

प्यार की लोरी तुझको सुना दू.
मधु का प्याला तुझपर उडेल दू.

तुम मेरे सबस प्यारे मेरा एकांश हो.
जीवन भर का नेह उडेलू तुम पर.

अपने पबित्र प्रेम से करा स्नान तुम्हे.
एक सुनागरिक बनाऊ तुमको मै.

अपने हृदय का सारा मधु स्नेह.
बारम्बार बार दू तुझपर मै.

मै माँ हू मै माँ हूँ तेरीजीवन दायिनी.
अटूट प्रेम बरसायिनी माँ सबकी हूँ.

Language: Hindi
72 Likes · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
तेरा ग़म
तेरा ग़म
Dipak Kumar "Girja"
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चार मुक्तक
चार मुक्तक
Suryakant Dwivedi
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
🙅18वीं सरकार🙅
🙅18वीं सरकार🙅
*प्रणय प्रभात*
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
*रामराज्य में सब सुखी, सबके धन-भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
व्योम को
व्योम को
sushil sarna
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
Dushyant Kumar
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
मजे की बात है ....
मजे की बात है ....
Rohit yadav
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...