Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2018 · 1 min read

सब कुछ पाना हमें यहाँ है

जीवन की राहें अनजानी,
मंजिल का भी पता कहाँ है.
चले जा रहे अपनी धुन में,
सब कुछ पाना हमें यहाँ है.

कहीं बबूलों के जंगल हैं,
कहीं महकती है अमराई.
फूल शूल के साथ विहँसकर,
फुलवारी में ले अँगड़ाई.

स्वप्न आस का मन आँगन में,
रोज टहलता यहाँ-वहाँ है.

आकर बाढ़ कहीं नफरत की,
तहस-नहस जीवन कर देती.
वहीं प्रेम की रिमझिम बारिश,
हर खाली आँचल भर देती.

पुष्प पल्लवित हैं खुशियों के,
त्याग और विश्वास जहाँ है.

कभी करें सन्नाटे विचलित,
कभी शोरगुल में दम घुटता.
कभी यहाँ पर मान किसी का,
दो रोटी की खातिर लुटता.

सुख का भी सामान बहुत है,
लेकिन बिखरा जहाँ-तहाँ है

बिस्तर पर होते हैं, लेकिन,
कभी चैन से कब हम सोते.
रात और दिन खटते रहते,
फिर भी काम न पूरे होते.
जाना है उस पार जगत के,
पर मन करता कभी न हाँ है.

Language: Hindi
Tag: गीत
253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
मेहनत और अभ्यास
मेहनत और अभ्यास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#आंखों_की_भाषा
#आंखों_की_भाषा
*प्रणय प्रभात*
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
बिन माली बाग नहीं खिलता
बिन माली बाग नहीं खिलता
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
*किस्मत वाले जा रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
★ किताबें दीपक की★
★ किताबें दीपक की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
करन ''केसरा''
*धरा पर देवता*
*धरा पर देवता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
किस तरफ़ शोर है, किस तरफ़ हवा चली है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
टूट जाता कमजोर, लड़ता है हिम्मतवाला
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बेवफ़ाई
बेवफ़ाई
Dipak Kumar "Girja"
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
कानून?
कानून?
nagarsumit326
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
আমায় নূপুর করে পরাও কন্যা দুই চরণে তোমার
Arghyadeep Chakraborty
Loading...