Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 2 min read

सब्र

सब्र

“आखिर कब तक हम यूँ हाथ पर हाथ धरे बैठे रहेंगे जी ?” पत्नी ने पूछा।
“सब्र कर भाग्यवान, ऊपरवाले और सरकार पर विश्वास रख। सरकार हम सबको कोरना से बचाव के मद्देनजर ही लॉकडाऊन की अवधि बढ़ा रही है। स्थिति में सुधार होते ही हम लोग फिर से अपने-अपने काम पर लग जाएँगे।” पति ने उसे समझाते हुए कहा।
“अड़ोस-पड़ोस के लोग धीरे धीरे अपने गाँव लौट रहे हैं। हमीं लोग कब तक पड़े रहेंगे यहाँ ?” पत्नी भविष्य को लेकर आशंकित थी।
“अच्छा, ये बताओ हम अपने गाँव चले भी गए, तो क्या करेंगे वहाँ ? कौन-सा खजाना गाड़ रखा है वहाँ ? और क्या इतना आसान है गाँव पहुँचना ? ट्रेन, बस, ट्रक सबके पहिए थम गए हैं। यहाँ से 800 किलोमीटर दूर उड़कर भी तो नहीं जा सकते न ? और पैदल ? सोचना भी मत… आत्महत्या जैसे कदम उठाना होगा।” पति उसे वास्तविक स्थिति बताने की कोशिश कर रहा था।
पत्नी को चुप देखकर वह संयत भाषा में बोला, “देखो, यहाँ की सरकार जो भी बन पड़ रहा है कर रही है न हमारी सहायता। स्वयंसेवी संस्था वाले भी हमारी मदद करने आ रहे हैं। अभी तक तो मालिक भी हमें तनखा दे ही रहे हैं, क्योंकि उन्हें भी पता है कि स्थिति सामान्य होने पर हम मजदूर लोग ही उन्हें पहले की स्थिति में ला खड़े करेंगे। मैं ठेला में सब्जी-भाजी बेच कर भी दो पैसा कमा ही रहा हूँ। स्थिति सामान्य होते ही हम काम पर लौटेंगे और खूब मेहनत करके मालिक और सरकार के भरोसे पर खरे उतरेंगे। अभी तुम ज्यादा टेंशन मत लो। बच्चों की और अपनी सेहत का ध्यान रखो।” उसने प्यार से पत्नी के हथेली को पकड़ कर कहा।
“और आपकी सेहत का ख्याल कौन रखेगी जी ?” पत्नी को शरारत सूझी।
“मेरी चिंता मत कर पगली। तुम लोगों की अच्छी सेहत देखकर मैं अपने आप स्वस्थ हो जाऊँगा।” पति ने उसे अपनी बाहों में भरते हुए कहा।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
*चलो शुरू करते हैं अपनी  नई दूसरी पारी (हिंदी गजल/गीतिका)*
*चलो शुरू करते हैं अपनी नई दूसरी पारी (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
पूर्वार्थ
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
"संविधान"
Slok maurya "umang"
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ऐ मुसाफिर"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
yuvraj gautam
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*Author प्रणय प्रभात*
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
3242.*पूर्णिका*
3242.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
वो निरंतर चलता रहता है,
वो निरंतर चलता रहता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...