Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

सब्जियों पर लिखी कविता

आलू धनिया मटर टमाटर आज चले सब मेले में।
पालक बैंगन गोभी भी बैठ गए सब ठेले में।
आलू बोला नहीं अकेला मैं तो कभी भी रहता हूं।
आलू मटर और धनिया रहते अक्सर मेरे झमेले में।
तोरई लौकी कद्दू बोले हम भी बड़े निराले है।
मूली और गाजर है सुंदर बैगन दादा काले हैं।
तभी करेला दादी बोली हम भी नहीं किसी से कम।
मुझे हैं जो भी खाते वह सेहत के रखवाले हैं।

Language: Hindi
4 Likes · 3 Comments · 374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
*हिंदी भाषा में नुक्तों के प्रयोग का प्रश्न*
Ravi Prakash
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Meri asuwo me use rokane ki takat hoti
Sakshi Tripathi
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
देखी है हमने हस्तियां कई
देखी है हमने हस्तियां कई
KAJAL NAGAR
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
याद आती है
याद आती है
Er. Sanjay Shrivastava
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
"गीत"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
सब दिन होते नहीं समान
सब दिन होते नहीं समान
जगदीश लववंशी
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
जब याद मैं आऊंँ...
जब याद मैं आऊंँ...
Ranjana Verma
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Neeraj Agarwal
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
💐अज्ञात के प्रति-37💐
💐अज्ञात के प्रति-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
2629.पूर्णिका
2629.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#काव्य_कटाक्ष
#काव्य_कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
Loading...