Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

“ सबकेँ स्वागत “

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
===================
पैघे टा नहि
छोटो केँ ,
अभिनंदन
हम करैत छी !
प्रेम सँ जे
जुड़ता हमरा सँ ,
स्वीकार सदा
हम करैत छी !!
सब छथि
अपना मे बाझल ,
अपना धुन मे
छथि मातल
प्रतिभा आ
आलोक केँ वो ,
नहि छथि पसारय
मे बाँचल !!
उपरागक गप्प
नहि कखनो
करबा क मन हुये
जेहन छी ओहने
छी सब दिन
कथमपि
परिवर्तन नहि हुये !!
कटुता क
स्थानक एतय ,
भला कहू
कौन काज ?
अभद्रता क
भाषा सँ ,
अछि हमरा
सबकेँ लाज !!
जे सोझा
आबैत छथि ,
हुनका आहाँ
सत्कार करू !
जे हृदय विदीर्ण
आहाँ केँ करताह ,
तिनका आहाँ
अस्वीकार करू !!
हम मित्र
शीघ्रतम बनिकें ,
सुंदर किला
बना लैत छी !
छोट छोट
मतांतर लकेँ ,
अपना मे हम
उलझैत छी !!
पैघे टा नहि
छोटो केँ ,
अभिनंदन
हम करैत छी !
प्रेम सँ जे
जुड़ता हमरा सँ ,
स्वीकार सदा
हम करैत छी !!
====================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखंड
भारत
07.12.2022

Language: Maithili
197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
पांव में मेंहदी लगी है
पांव में मेंहदी लगी है
Surinder blackpen
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
मैंने अपनी, खिडकी से,बाहर जो देखा वो खुदा था, उसकी इनायत है सबसे मिलना, मैं ही खुद उससे जुदा था.
Mahender Singh
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
"फितूर"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अनुभव 💐🙏🙏
अनुभव 💐🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/32.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
Loading...