Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

दीवार में दरार

देखिए हर घर में दीवार नजर आती है
उसी दीवार में एक दरार नजर आती है
कुछ बोलना भी चाहे पर बोल नहीं पाती
अपनों के व्यवहार से बेजार नजर आती है
देखिए हर घर में………..
कभी रहते थे सभी एक ही छत के नीचे
आज खड़े हैं क्यूं लकीर तकरार की खींचे
वो छत जिसमें बुजुर्गों की आत्मा रहती थी
आज वही छत बेबस लाचार नजर आती है
देखिए हर घर में…………
कभी होता था प्रेम भाव जिन रिश्तों में
आज लेते हैं मानो कि वो सांस किश्तों में
जो रिश्ते महकते थे कभी यूं बयार बनकर
आज उन्हीं में खिंची तलवार नजर आती है
देखिए हर घर में…………
दिलों में नफरत का है बोलबाला यहाँ
छा रहा अंधेरा खो गया है उजाला कहां
वो प्यार वो अपनापन अब है कहां देखो
बस गिले-शिकवे या तकरार नजर आती है
देखिए हर घर में………….
“V9द” कितने बदल गए हैं आज सब
क्या दबी रह जाएगी मेरी आवाज अब
क्या कभी भी नहीं सुधरेंगे ये हालात हैं जो
सबकी अपनी-अपनी सरकार नजर आती है
देखिए हर घर में…………..

6 Likes · 2 Comments · 797 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो, गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
यति यतनलाल
यति यतनलाल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
पढ़ें बेटियां-बढ़ें बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
क्या लिखूँ
क्या लिखूँ
Dr. Rajeev Jain
Lonely is just a word which can't make you so,
Lonely is just a word which can't make you so,
Sukoon
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
कटघरे में कौन?
कटघरे में कौन?
Dr. Kishan tandon kranti
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
गुमनाम 'बाबा'
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
*पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)*
*पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)*
Ravi Prakash
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
Loading...