Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

सपेरा

बीन की आवाज सुनकर,
खुल गये घर के कपाट,
दौड़ के आए नन्हे मुन्ने ,
देखने सपेरा के सांप ।

फन फैलाये नाग नागिन,
सुन कर बीन की तान,
बाबा संत के वेश में,
सपेरा दिखाए नाच ।

काल को हाथ में लेकर,
दर्शन कराये गलियों में ,
हो जाए खुश नन्हे मुन्ने,
जिन्होंने न देखा जिंदा सांप।

मन प्रसन्न होकर घर को लौटे,
देकर झोली में दान,
प्रकृति का है ये जीव धारी,
सपेरा बीन संग रखे साथ।

रचनाकार ✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

5 Likes · 4 Comments · 416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
#कविता-
#कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
जग में अच्छे वह रहे, जिन पर कोठी-कार (कुंडलिया)*
जग में अच्छे वह रहे, जिन पर कोठी-कार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
भाग्य और पुरुषार्थ
भाग्य और पुरुषार्थ
Dr. Kishan tandon kranti
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
हम तुमको अपने दिल में यूँ रखते हैं
Shweta Soni
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
रण चंडी
रण चंडी
Dr.Priya Soni Khare
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
बादल
बादल
Shankar suman
Loading...