Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

सपने

मेरे सपने बहुत नही है
शायद उतने व्यथित नही है

सोते-जगते स्वप्न दिखाती
छोटी-सी दुनिया हो अपनी

छोटी-मोटी जो रखी पुस्तकें
मुझको मेरा लक्ष्य दिला दें

लक्ष्य मिले तब टूटे सपना
सपना टूटे तो सब अपने हों

जो अपने हो सब सच्चे हों
लगे यहाँ कि भोले बच्चे हों

#दिव्या कुमारी 😊

Language: Hindi
8 Likes · 1 Comment · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़रूरत के तकाज़ो
ज़रूरत के तकाज़ो
Dr fauzia Naseem shad
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Pratibha Pandey
रिसते हुए घाव
रिसते हुए घाव
Shekhar Chandra Mitra
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि  डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
Ravi Prakash
वक्त नहीं
वक्त नहीं
Vandna Thakur
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
Loading...