Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

सपने

मेरे सपने बहुत नही है
शायद उतने व्यथित नही है

सोते-जगते स्वप्न दिखाती
छोटी-सी दुनिया हो अपनी

छोटी-मोटी जो रखी पुस्तकें
मुझको मेरा लक्ष्य दिला दें

लक्ष्य मिले तब टूटे सपना
सपना टूटे तो सब अपने हों

जो अपने हो सब सच्चे हों
लगे यहाँ कि भोले बच्चे हों

#दिव्या कुमारी 😊

Language: Hindi
1 Like · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2400.पूर्णिका
2400.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज का दोहा...।
■ आज का दोहा...।
*प्रणय प्रभात*
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक // अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"मुझे पता है"
Dr. Kishan tandon kranti
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
*राजकली देवी शैक्षिक पुस्तकालय*
Ravi Prakash
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
दस्तूर
दस्तूर
Davina Amar Thakral
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
Loading...