Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2022 · 1 min read

– सपना जो अधूरा रह गया –

-सपना जो अधूरा रह गया-

एक सपना मेरा जो अधूरा रह गया,
होना था जिसे पूरा वो अधूरा रह गया,
चाहत थी अपनो के साथ की,
इस चाहत ने मुझे अकेला कर दिया,
कामना थी प्रेम ,सौहार्द,अपनत्व की,
अभिलाषाओं पर अपनो ने पानी फेर दिया,
इच्छा थी मेरी अपनो के अपनत्व की,
पाना चाहता था में जो अपनो का प्यार,
आकांक्षा थी पाने की बड़ो का दुलार,
सपना था बड़ा होकर के कुछ बड़ा करने का,
उच्च शासनाधीश, अधिकारी बनने का,
पुस्तके पढ़ने ,पुस्तकें लिखने का,
लोग जीतते है मत ,
मन को जीत कर मनजीत बनने का,
सपना था मेरा लेख पढ़ने का,
लेख पढ़कर आलेख लिखने का,
कविता को पढ़कर कविता लिखने का,
उपन्यास पढ़कर उपन्यास गढ़ने का,
इतिहास पढ़कर इतिहास रचने का,
टूट गया यह सपना जब छोड़ दिया अपनो ने साथ,
दिया दगा अपने ने कहलाए वे दगाबाज,
इस तरह गहलोत करता बयान,
भरत का था जो सपना वो अधूरा रह गया,

भरत गहलोत
जालोर राजस्थान,
सम्पर्क सूत्र-7742016184-

Language: Hindi
281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
Subhash Singhai
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
Dr Archana Gupta
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
*दान: छह दोहे*
*दान: छह दोहे*
Ravi Prakash
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
पिता
पिता
Swami Ganganiya
रदुतिया
रदुतिया
Nanki Patre
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
VINOD CHAUHAN
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*प्रणय प्रभात*
"शुभचिन्तक"
Dr. Kishan tandon kranti
3057.*पूर्णिका*
3057.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
मैं चाहता हूं इस बड़ी सी जिन्दगानी में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...