Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

सनम

हम बेवफा न थे , न कभी हो पाएंगे।
ज़रा बताइए, अकेले हम क्या सुकून पाएंगे।।
जब हम तुमसे है और तुम हो मुझसे ।
तो अकेले हम या तुम, ख़ाक जीत पाएंगे।।
ये लड़ाई जो जिंदगी की , है हम दोनों की।
लड़ेंगे साथ तो, फतह जिंदगी कर जायेंगे।
कसम खाते है,एक दूसरे से हम ” संजय”।
हजारों जख्म भी, हमको न तोड़ पाएंगे।

Language: Hindi
2 Likes · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सारे यशस्वी, तपस्वी,
सारे यशस्वी, तपस्वी,
*Author प्रणय प्रभात*
मातृत्व दिवस खास है,
मातृत्व दिवस खास है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथ में खल्ली डस्टर
हाथ में खल्ली डस्टर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
हे मन
हे मन
goutam shaw
इश्क में  हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
इश्क में हम वफ़ा हैं बताए हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
💐अज्ञात के प्रति-71💐
💐अज्ञात के प्रति-71💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)
DrLakshman Jha Parimal
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...