Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

सनम

न सत्तर हूर की ख्वाहिश,
बहिश्त भी नहीं चाहूँ।
जहां पर वो कदम रख दें,
वहीं पर है मेरी जन्नत।

फरिश्तों को नहीं देखा
या दिखता है खुदा कैसा।
सनम का नूर देखा है
चमकता ज्यों खरा सोना।

सनम तू ही मेरा रहबर,
इबादत है फ़क़त तू ही।
तुझे जब देख लेता हूँ,
दीवाली मन जाती उस दिन।

न मंजनू हूँ न रांझा हूँ,
मगर आशिक हूँ कुछ ऐसा।
जुले खां पागल दिखती थी,
यूसुफ के प्यार में जैसे।

सनम आशिक है बनता खुद,
सनम महबूब है खुद ही।
उठा कर जब कभी देखा,
आईने में सनम दिखता।

सतीश सृजन

Language: Hindi
Tag: शेर
284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
.......*तु खुदकी खोज में निकल* ......
Naushaba Suriya
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
#अभिनंदन-
#अभिनंदन-
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
Ravi Prakash
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
"शीशा और रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
यहाँ पर सब की
यहाँ पर सब की
Dr fauzia Naseem shad
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
संकट मोचन हनुमान जी
संकट मोचन हनुमान जी
Neeraj Agarwal
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...