Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

सनम की शिकारी नजरें…

बड़ी शिकारी नजरें हैं सनम आपकी,
झाड़ियों में छिपे तीतर को भी मार देते हो,
शिकार करने का तुम्हारा ये नायाब तरीका है,
जान से मारते हो और मुँह प्यारी आहें भरवा देते हो,
पहाड़ों को भी मसलते हो ऐसे जैसे रुई के गोले हों,
साँप का जहर निकालकर ही सनम दम लेते हो,
गुफाओं से शहद के प्याले भर लाते हो,
लबों पर लगाकर उसे लबों से ही पी लेते हो,
खोल देते हो जिस्म की हर बंद अंगड़ाई को,
घोंपकर खंजर जिस्म के दो फाड़ कर देते हो,
तरकस से निकालते हो तीर और छाती में मार देते है,
साँसे ऊपर चढ़ाकर स्वर्ग के दर्शन करा देते हो,
प्यासे पपीहे की प्यास पानी से बुझा देते हो,
पीछा करते-करते पसीना-पसीना हो जाते हो,
बड़ी शिकारी नजरें हैं सनम आपकी,
शिकार को देखते हो और मरने की प्यास बड़ा देते हो।।
prAstya……(प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
3 Likes · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"देश भक्ति गीत"
Slok maurya "umang"
"तू है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सम्भव नहीं ...
सम्भव नहीं ...
SURYA PRAKASH SHARMA
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
Neelofar Khan
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
चाय - दोस्ती
चाय - दोस्ती
Kanchan Khanna
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
अर्धांगिनी सु-धर्मपत्नी ।
Neelam Sharma
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
✍️✍️✍️✍️
✍️✍️✍️✍️
शेखर सिंह
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
*कुछ अनुभव गहरा गए, हुए साठ के पार (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
Loading...