Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

सत्य

ईश्वर ही परम सत्य है,शाश्वत है अविनाशी है।
निराकार ज्योति-बिन्दु है,परम शक्ति विश्वासी है।।

सत्य आनंद,शुभ,पवित्र,सतत्-शांति का गागर है।
उच्चतम-कल्याणकारी,सुखद स्नेह का सागर है।।

सच पर धूल नहीं चढ़ती, सत्य सत्य ही रहता है।
सूक्ष्म से भी अति सूक्ष्म है,ब्रह्म हृदय में बहता है।।

एक केवल सत्य ही तो,बाह्य भीतर एक सा है।
सच मानकर विश्वास कर,देह भीतर ही बसा है।।

भव-बन्ध से निर्मुक्त है,जो सत्य है वो शुद्ध है।
ब्रह्माण्डरूपी लहरियाँ,चैतन्यघन में बुद्ध है।।

निरपेक्ष दृष्टा सर्व का,सत्यपंथी अक्षुब्ध है।
पावन परम निज आत्म का,अंत: वृत्ति में लुब्ध है।

भयभीत वह होता नहीं,जो सत्य को जानता है।
अपना पराया भेद तज, सत्य को ही मानता है।
-लक्ष्मी सिंह

3 Likes · 1 Comment · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
शेखर सिंह
◆ आप भी सोचिए।
◆ आप भी सोचिए।
*प्रणय प्रभात*
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
Loading...