Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

सत्य कभी निरभ्र नभ-सा

सत्य कभी निरभ्र नभ-सा,
कभी छुप जाए घन-अंधकारा।
पर नित रहता यह दृगों के सामने,
दिल की आँखों में बसता प्यारा।

सत्य कभी अनवरत प्रकाश सा,
कभी है वो आसमान का ध्रुव तारा।
पर दिखाए अंधकार में रास्ता,
तो कभी भटके हुए को घर ले आता।

सत्य के पथ पर जो भी चलता,
कभी भी उसको भय नहीं सताता।
ज्यों घन छँटते ही दीप्त हो उठे मन,
सत्य का प्रकाश भी त्यों जगमगाता।

झूठ के घने अंधेरे को चीरता,
सत्य का सूरज सदा ही चमकता।
अंधियारे को मिटाता जाता,
सत्य ही ज्ञान का दीप है जलाता।

सत्य का ज्ञान जीवन की दिशा,
और झूठ का साथ है पथ का विघ्न।
सत्य की विजय है सदैव निश्चित,
और झूठ की हार है अपरिहार्य।

इसलिए हे मनुष्य,
सत्य का ही तुम करण करना।
सत्य की ही राह पर चलना,
और झूठ से तुम कोसों दूर रहना।

– सुमन मीना (अदिति)
लेखिका एवं साहित्यकार

3 Likes · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
करतलमें अनुबंध है,भटक गए संबंध।
करतलमें अनुबंध है,भटक गए संबंध।
Kaushal Kishor Bhatt
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
हिंदी साहित्य की नई : सजल
हिंदी साहित्य की नई : सजल
Sushila joshi
जहरीले और चाटुकार  ख़बर नवीस
जहरीले और चाटुकार ख़बर नवीस
Atul "Krishn"
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
सब की नकल की जा सकती है,
सब की नकल की जा सकती है,
Shubham Pandey (S P)
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रेरणा गीत
प्रेरणा गीत
Saraswati Bajpai
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
👌बोगस न्यूज़👌
👌बोगस न्यूज़👌
*प्रणय प्रभात*
Loading...