Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

* सताना नहीं *

** गीतिका **
~~
गलत राह पर पग बढ़ाना नहीं।
स्वयं को कभी भी सताना नहीं।

कभी भी समय जब न अनुकूल हो।
अकारण कठिन पग उठाना नहीं।

हृदय आ गया हो किसी पर अगर।
कभी चूकना फिर निशाना नहीं।

कहें लोग कहते रहें व्यर्थ में।
हमें तो बुरा अब मनाना नहीं।

जहां राजनेता बहुत भ्रष्ट हैं।
उन्हें वोट देना दिलाना नहीं।

किसी स्वार्थ के हित वशीभूत हो।
कभी शीश अपना झुकाना नहीं।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०५/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
शहर माई - बाप के
शहर माई - बाप के
Er.Navaneet R Shandily
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
😊पुलिस को मशवरा😊
😊पुलिस को मशवरा😊
*Author प्रणय प्रभात*
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
करते प्रियजन जब विदा ,भर-भर आता नीर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
खून के रिश्ते
खून के रिश्ते
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
Shyam Sundar Subramanian
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
कवि दीपक बवेजा
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai  zindagi  kam hi  sahi.
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai zindagi kam hi sahi.
Rekha Rajput
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
Loading...