Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2022 · 1 min read

सट्टेबाज़ों से

कह दो उन सट्टेबाज़ों से जो सट्टा किसी इंसान से लगाते है,
अरे हम तो किसान है,सट्टा हम भगवान से लगाते है,,

Language: Hindi
Tag: शेर
258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
gurudeenverma198
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
Er. Sanjay Shrivastava
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
किसान की संवेदना
किसान की संवेदना
Dr. Vaishali Verma
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
***
***
sushil sarna
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
कभी शांत कभी नटखट
कभी शांत कभी नटखट
Neelam Sharma
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
तुलसी जयंती की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
अरदास मेरी वो
अरदास मेरी वो
Mamta Rani
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
"" *श्रीमद्भगवद्गीता* ""
सुनीलानंद महंत
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
दुष्यन्त 'बाबा'
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
Loading...