Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

सज गई अयोध्या

सज गई अयोध्या ( गीत, झुलनी में गोरी लागा हमार जिया तर्ज पर)

मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला
…2
मंदिर में प्रभुराम बिराजे..2मंद मंद मुस्कान से साजे
लेकर बाल रुप वाला, अयोध्या वाला
मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला।।

मंदिर में तीन तोरण बना है..2तीन खंड का अद्भुत बना है,
सजधज गया हर आला, अयोध्या वाला… मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला ।।

सज गये रामलला, “सज गई अयोध्या”..2हर्षे हैं ऋषि गण, हर्षे जनगण,
हर्षें सनातन वाला, अयोध्या वाला,
मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला,

वर्षों से की प्रतीक्षा थी, बरसों…2। अंखियां दरसनको प्यासी थीं तरसों,
अबहीं विराजे टैंटवाला , अयोध्या वाला
मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला।।

चलो भक्तों प्रभु दर्शन करें हम ..2अंखियन भर भर सुख को धरे हम ,
बिगड़ी बनावें रामलाला , अयोध्या वाला
मंदिर बना है निराला अयोध्या वाला।।

डॉ कुमुद श्रीवास्तव वर्मा कुमुदिनी लखनऊ

1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
आख़िरी इश्क़, प्यालों से करने दे साकी-
Shreedhar
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
शेखर सिंह
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
*किताब*
*किताब*
Dushyant Kumar
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
" हवाएं तेज़ चलीं , और घर गिरा के थमी ,
Neelofar Khan
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
जागो जागो तुम,अपने अधिकारों के लिए
gurudeenverma198
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
मौनता  विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
मौनता विभेद में ही अक्सर पायी जाती है , अपनों में बोलने से
DrLakshman Jha Parimal
2900.*पूर्णिका*
2900.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
Loading...