Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 2 min read

#सच_स्वीकार_करें…..

#आपदा_के_बाद
■ सच स्वीकार करें…..
【प्रणय प्रभात】
लगभग तीन साल तक आपदा के एक विकट दौर ने दुनिया को बता दिया कि किसी भी मनुष्य के दैनिक जीवन की वास्तविक व अनिवार्य आवश्यकताएं कितनी सीमित हैं। साथ ही यह भी समझा दिया कि हम कितनी चीज़ों के बिना आराम से जीवित और आनंदित रह सकते हैं।
फिर अर्जन व संचय को लेकर इतनी आपा-धापी क्यों…? इतना संघर्ष क्यों, कि जीवन का वास्तविक लक्ष्य व आनंद कोसों पीछे छूट जाए? जो असमय व अकस्मात गए, वो कितना और क्या ले गए अपने साथ…?
पानी के बुलबुले जैसे एक क्षण-भंगुर से जीवन के लिए नश्वर साधनों व संसाधनों के संग्रहण व प्रदर्शन की अंधी होड़ क्यों…? हो सके तो सोचिएगा ज़रूर। पूछिएगा भी कभी। किसी और से नहीं अपने आप से। अगर आपने आपदा काल में अपार समृद्धि व संपन्नता के बाद भी किसी अपने को असहाय व दयनीय होकर खोया हो और उसकी पीड़ा से उबर न पाए हों तो।
जिनकी वेदना समाप्त हो चुकी हो, वे अपना घड़ा भरते रहें। एक दिन फूटने के लिए, ताकि अगली पीढ़ी आपके कर्मों का हिसाब अपने कृत्यों से बराबर करने का अवसर पा सके। ठीक वैसे ही, जैसे आपने पाया आपदा-काल की सौगात या वरदान के रूप में। ऐसे में घड़ियाली आंसू बहा कर और रोनी सूरत बना कर अपने वास्तविक मनोभावों पर झूठ का झीना सा आवरण डालने की चेष्टा भी न करें। सबको पता लगने दें कि अवसरों से भरपूर आपदा-काल अभिशाप नहीं वरदान था। विशेष रूप से उनके लिए जो स्वयं को अस्तेय और अपरिग्रह जैसे महान सिद्धांतों का पक्षधर मान कर आत्म-गौरव की अनुभूति का दम्भ भरते आ रहे हैं। प्रभु श्री इस श्रेणी के क्षुद्र व धृष्ट जीवों सहित उनकी संतति पर करुणा-पूर्वक करुणा करें। हम तो मात्र इतनी सी प्रार्थना कर सकते हैं। सामाजिक सरोकारों के वशीभूत, एक शुभेच्छु के रूप में।।
【प्रणय प्रभात】
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण
पर्यावरण
Manu Vashistha
-- मुंह पर टीका करना --
-- मुंह पर टीका करना --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
कहो कैसे वहाँ हो तुम
कहो कैसे वहाँ हो तुम
gurudeenverma198
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
*धन्य करें इस जीवन को हम, परहित हर क्षण जिया करें (गीत)*
*धन्य करें इस जीवन को हम, परहित हर क्षण जिया करें (गीत)*
Ravi Prakash
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
* प्रीति का भाव *
* प्रीति का भाव *
surenderpal vaidya
2630.पूर्णिका
2630.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
डॉ० रोहित कौशिक
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*प्रणय प्रभात*
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
Loading...