Oct 19, 2016 · 1 min read

सच

कोई जीतने की चाहत रखता है,
कोई प्यार की इबादत करता है |
बड़ा कमज़ोर है आदमी,
सोचता है पाने को मंज़िल,
पर हाँथ खाली रखता है ||
ज़िंदगी के मायने अलग है यहाँ,
पर मौत की हकीकत एक है |
झूठ स्वार्थ की माया है ज़िंदगी,
पर मौत की शख्सियत एक है ||
क्या बुरा क्या भला किसको पता,
फिर क्यों सभी को,
अपने ही पैमाने में रखते है लोग |
डर से सच भी न कह सके,
ऐसे डर में क्यों जीते है लोग ||
– सोनिका मिश्रा

2 Likes · 1 Comment · 426 Views
You may also like:
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
प्रयास
Dr.sima
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
माँ
आकाश महेशपुरी
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H.
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...