Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2023 · 1 min read

सच तो रंग होते हैं।

सच तो रंग होते हैं।
खुशी का इजहार करते हैं

135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
प्रभु श्रीराम
प्रभु श्रीराम
Dr. Upasana Pandey
चलो सत्य की राह में,
चलो सत्य की राह में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कजरी लोक गीत
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
3065.*पूर्णिका*
3065.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
मेला एक आस दिलों🫀का🏇👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत कुछ बदल गया है
बहुत कुछ बदल गया है
Davina Amar Thakral
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
*थोड़ा-थोड़ा दाग लगा है, सब की चुनरी में (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
ईष्र्या
ईष्र्या
Sûrëkhâ
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
Loading...