Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

सच तुम बहुत लगती हो अच्छी

सच तुम बहुत लगती हो अच्छी।
दिल को पसंद है, तू हमको पसंद है।।
ये आपकी जुल्फें साया है मेरा।
दिल की पनाह है, हमको पसंद है।।
सच तुम बहुत————————।।

बैठी रहो तुम यूं ही सामने।
यह दिल हमारा चाहता यही है।।
करते रहो बातें मोहब्बत की तुम।
यह दिल हमारा कहता यही है।।
लबों तुम्हारी हंसी है हसीन।
खुश है दिल भी,हमको पसंद है।।
सच तुम बहुत——————।।

शर्माओ नहीं तुम हमसे ऐसे।
हमसे भी क्या यूं पर्दा करना।।
हम बेवफा तुमसे नहीं है।
मकसद नहीं तुमको बदनाम करना।।
माहताब जैसी हो खूबसूरत।
रोशन है दिल भी,हमको पसंद है।।
सच तुम बहुत——————–।।

मुलाकात अपनी ये टूटे नहीं।
रूठे नहीं यह दिल भी कभी।।
गुलजार हमेशा यह गुलशन रहे।
बुझे नहीं यह चिराग कभी।।
खुशी- ख्वाब हो तुम जिंदगी में।
दिल का हो अरमान,हमको पसंद है।।
सच तुम बहुत——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
दुनिया बदल सकते थे जो
दुनिया बदल सकते थे जो
Shekhar Chandra Mitra
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं कभी तुमको
मैं कभी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
■आज का #दोहा।।
■आज का #दोहा।।
*Author प्रणय प्रभात*
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
Loading...