Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

सच का सच

सच में सच खोजना कठिन नहीं है ,
कठिन है तो,
सच पचा जाना,
उसमें रम जाना,
रात – दिन।

विचार – व्यवहार,
सच हैं तो भी,
निभाए कौन सच्चाई से?

आहार – विहार,
सच हैं परंतु,
अपनाए कौन तत्परता से?

किसी ने सच कहां खोजा?
व्यवसाय निभाती आहोें में!
सुंदरता को निहार कौन रहा है?
अपनी चर्मचक्षु निरुद्ध कर,
गुफाओं में ?

ऊंचे पहाड़ ,
विस्तृत नभ,
गहरा अर्णव,
गहन अरण्य,
ये हैं सच प्राकृतिक कृति।

भूखा – निर्धन,
अभाव में लाचार!
औषध बिना,
त्यागता प्राण चेतन!
यह है सच अटल !!

इसे पिरोता कौन है ?
अपने आडंबर कविता – निस्सार में?
क्योंकि
सच में सच खोजना कठिन नहीं है ,
कठिन है तो,
सच पचा जाना,
उसमें रम जाना,
रात – दिन।

## समाप्त

3 Likes · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
पिता
पिता
Kanchan Khanna
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
*सरल हृदय श्री सत्य प्रकाश शर्मा जी*
*सरल हृदय श्री सत्य प्रकाश शर्मा जी*
Ravi Prakash
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"परिवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री शूलपाणि
श्री शूलपाणि
Vivek saswat Shukla
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
कुछ मेरा तो कुछ तो तुम्हारा जाएगा
अंसार एटवी
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
दुनिया में अधिकांश लोग
दुनिया में अधिकांश लोग
*प्रणय प्रभात*
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
3091.*पूर्णिका*
3091.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मलाल न था
मलाल न था
Dr fauzia Naseem shad
छत्तीसगढ़ी हाइकु
छत्तीसगढ़ी हाइकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साया ही सच्चा
साया ही सच्चा
Atul "Krishn"
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
We are sky birds
We are sky birds
VINOD CHAUHAN
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
Loading...