Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 2 min read

सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती

सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती

भोर फटे जब चिड़िया चहके,
मुर्गे की बांग, सोने नहीं देती,
‘झाड़ू की सर सर, सड़क की चहल-पहल’,
शोर जल्दी उठने पर मजबूर कर देती है,
सच कहते हैं जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

जब बाकी बच्चे खेल के मैदान में किलकारी मारे,
मजदूर बालक को ईटों की परात सोने नहीं देती,
‘आज कितना बोझ ढोना है, ऊपर नीचे कितने चक्कर लगाने हैं’,
ख्याल दिल को झंझोर कर रख देते हैं,
सच कहते हैं जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

जब गाड़ी मोटर की आवाज कानों में पड़ती है,
मशीनों की कर्कश ध्वनि सोने नहीं देती,
‘मजदूरी कितनी होगी, कितना राशन घर जाएगा संग मेरे’,
जैसे विचार दिल दहला देते हैं,
सच कहते हैं जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

मंदिर में जब घंटा बजे,
कानों में रस घोलती ध्वनि, सोने नहीं देती
‘मां तोलिया कहां है, कपड़े स्त्री किए हैं क्या’,
जैसे शब्द गूंजते रहते हैं,
सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

स्कूल की बस का जब होरन बजे,
विनती से पुकारते अल्फाज सोने नहीं देती,
‘मेरा टिफिन कहां है, मेरा लैपटॉप कहां है’,
जैसी अरज दिल को मोह लेती हैं,
सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

जब शाम ढले सूरज छिपने लगे,
बच्चों की जरूरतें सोने नहीं देती,
‘आज बड़े को जूते दिलवाने हैं, छोटी को किताब दिलवानी है’,
जैसे मनन अंतर्मन में चलते रहते हैं,
सच कहते हैं जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

जब दिन ढले, आसमान में तारे हो,
बड़े बुजुर्गों का ख्याल सोने नहीं देती,
‘मां को दवा देनी है, बाबा को कंबल उठानी है’,
फिक्र मेरी, नींद उड़ा देती है,
सच कहते हैं जिम्मेदारियां सोने नहीं देती।।

#seematuhaina

Language: Hindi
2 Likes · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
बेटियां!दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
सत्य
सत्य
Dr.Pratibha Prakash
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*Author प्रणय प्रभात*
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
Manisha Manjari
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐Prodigy love-43💐
💐Prodigy love-43💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...