Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

सच्चे दोस्त की ज़रूरत

दोस्तों की महफिल में
जब खुद को अकेला पाया
तब जाना अब तक
ज़िंदगी में कुछ नहीं पाया

जिनको समझता था अपना
वो अपने नहीं, वो तो पराए निकले
वो नाचते रहे उस महफिल में
जिसमें मेरे दिल के अरमान निकले

था मौका जश्न का लेकिन
मेरा दिल कहीं और था
झूम रहे थे सभी महफिल में
फरमाइशों का दौर था

जाने मैं क्यों खुद को आज
उनसे दूर पा रहा था
आज फिर उनकी खुशी से मैं
बहुत दूर जा रहा था

थे वो तो मस्ती में बहुत
मेरे हाल से वो अनजान थे
चढ़ा था सुरूर उनको
दुनिया से आज अनजान थे

झूम रहे थे हाथों में लेकर हाथ
जो कर रहे थे वो सही कर रहे थे
देखकर अकेलापन अपना
हम इस महफिल में भी डर रहे थे

है ज़रूरी होना सच्चे दोस्त का
अच्छी ज़िंदगी जीने के लिए
वैसे तो बहुत मिल जाएंगे दोस्त भी
अच्छे समय को जीने के लिए।

Language: Hindi
20 Likes · 3 Comments · 819 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
उफ ये सादगी तुम्हारी।
उफ ये सादगी तुम्हारी।
Taj Mohammad
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
Kshma Urmila
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
2320.पूर्णिका
2320.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विलीन
विलीन
sushil sarna
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
मौत
मौत
Harminder Kaur
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हमारा देश
हमारा देश
Neeraj Agarwal
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
Loading...