Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 2 min read

सच्ची घटना का काव्यमय प्रस्तुति

किसी किसी इंसान की कैसी होती है तकदीर ?
———————————————————–
किसी किसी इंसान की कैसी होती है तकदीर ?
कभीकभी भगवान भी निर्मम हो जाता बेपीर।।
दो बेटी एक बेटा पत्नी पति का था परिवार ,
सब खुशियाँ उनके घर में थीं सुखमय था संसार ।
आठ माह का बेटा था सुन्दर सुघड़ सलोना,
क्रूर काल के कारण होगया होना था जो होना ।।
बेटा बेटी पति पत्नी से घर थी खुशहाली।
बड़ा प्यार था पति पत्नी में मन में थी हरियाली ।।
एक दिन शैर सपाटे को निकले पति पत्नी और बेटा ।
मासूम से बेटे और पति का बड़ा भाग्य था हेटा ।।
अचानक एक्सीडेंट हुआ और पत्नी स्वर्ग सिधारी
क्रूर काल ने क्रूर भाग्य पर क्रूरतम ठोकर मारी ।।
पति असहाय बिलख रहा था न बेटे को खरोंच तक आयी ।
क्रूर काल की क्रूरतम ठोकर ह्रदय में गयी समायी।।
शोकाकुल परिवार हुआ भाग्य फूट गया पति का ।
तिनका तिनका वना घोंसला टूट गया था पति का ।।
आठ माह के कौमल शिशु का कौन था पालनहारा ।
पति की छोटी बहिन अलावा नहीं था कोई सहारा
हाय हाय पशु पक्षी करि रहे तरु भी अकुलाय रहे थे ।
अश्रुपात करके तरु मानो पत्ते गिराइ रहे थे ।।
मृगों के शावक शोक में उगल रहे थे निवाला।
पति बेटे के क्रूर भाग्य का कोई न था रखवाला ।।
बहिन जब दूध पिलाती माँ की याद आ जाती ।
पाषाण भी पिघलने लगता फट जाती बज्र की छाती ।।
मोरों ने नाचना छोड़ दिया धेनुओं ने पानी पीना ।
कोयल ने कूकना छोड़ दिया पशुओं ने जैसे जीना ।।
शोक भी शोकाकुल सा हुआ जैसे अश्रुपात हो रहा हो ।
करुणा भी कराह उठी जैसे वार वार रो रहा हो ।। माँ की याद करके शिशु रोता जाता चुप न कराया ।
माँ को इधर उधर देखता फिर भी कहीं न पाया ।
परिवार पडौसी सब थे बिलखते शिशु की कैसी ये तकदीर ।
समझाने से ह्रदय न समझे धरे न मन ये धीर ।।
ऐसा निर्मम भाग्य लिखे न खुदा कभी किसी का।
सभी प्रसन्न सुखी सब होवें होवे भला सभी का ।।
बिशेष:-सच्ची घटना पर आधारित

Language: Hindi
297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
2750. *पूर्णिका*
2750. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*जग जीत पाते हैं (मुक्तक)*
*जग जीत पाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जख्म पाने के लिए ---------
जख्म पाने के लिए ---------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
पिता
पिता
Manu Vashistha
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
कवि दीपक बवेजा
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
Adarsh Awasthi
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
//  जनक छन्द  //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
डरे गड़ेंता ऐंड़ाने (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...