Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 2 min read

संस्कार – कहानी

शर्मा जी के परिवार में माता – पिता के अलावा पत्नी सुधा , और दो बच्चे पंकज और निधि थे | परिवार सभ्य , सुसंस्कृत एवं संस्कारी था | शर्मा जी के दोनों बच्चे भी सुसंस्कृत एवं संस्कारों से पोषित थे | पंकज अभी कक्षा बारहवीं और निधि अभी कक्षा आठवीं में पढ़ रही थी | मंदिर जाना और मदिर में सेवा करना दोनों का रोज का नियम था | कॉलोनी में वृक्षारोपण , कॉलोनी की साफ़ सफाई में भी दोनों का बराबर का योगदान हुआ करता था | पढ़ाई में भो दोनों बच्चे अव्वल आते थे | शर्मा जी की नियमित आय के बारे में घर में सभी भिज्ञ थे | इसलिए फालतू चीजों पर भी खर्च नहीं किया जाता था |
एक बार की बात है पंकज और निधि दोनों स्कूल से वापिस लौट रहे थे | रास्ते में उन्हें सड़क पर एक पड़ा हुआ लिफाफा मिल जाता है | दोनों बच्चे उस लिफ़ाफ़े को उठा लेते हैं और उस पर लिखे पते को पढ़ते हैं | पता उनके घर के काफी दूर का था | फिर भी दोनों बच्चे सबसे पहले घर जाते हैं और अपनी माँ को सारी बात बता देते हैं | घर में सभी बच्चों को कहते है कि पापा के आते ही वे उनके साथ जाएँ और जिसका भी लिफाफा है उसे देकर आयें |
शाम को शर्मा जी घर आते हैं और सारी बात जानकर वे चाय पीने के बाद बच्चों के साथ उस पते पर चल देते हैं | वहां वे उस पते पर पहुंचकर उस पत्र को उन्हें सौंप देते हैं | वे पत्र में लिखी बात जानकार बहुत खुश होते हैं | उस पत्र में बच्चे की नौकरी को ज्वाइन करने का लैटर था | और उस बच्चे को अगले ही दिन वहां ज्वाइन करना था | उस बच्चे के माता – पिता यह जानकार खुश होते हैं कि इन बच्चों को यह पत्र मिला था | वे दोनों बच्चों को ढेर सारा आशीर्वाद देते हैं | और जीवन में हमेशा दूसरों के लिए अच्छा करते रहने के लिए प्रेरित करते हैं | जिस बच्चे का ज्वाइन करने का लैटर था वह शर्मा जी के पैरों पर पड़कर बच्चों द्वारा किये गए श्रेष्ठ कार्य के लिए प्रशंसा करता है और कहता है कि मुझे आज मेरे परिवार के लिए यह नौकरी बहुत ही ज्यादा आवश्यक थी | आपके बच्चों ने मेरी जिन्दगी में बहुत बड़ा योगदान दिया है | आपका शुक्रिया | और इन बच्चों का भी |

इस कहानी के पीछे एक सत्य घटना यह है कि जब मैं नौकरी के लिए कोशिश कर रहा था और मुझे नौकरी की सबसे ज्यादा जरूरत थी तब मेरा नवोदय विद्यालय के लिए इंटरव्यू के लिए पत्र एक सप्ताह बाद पहुंचा था | जिसकी वजह से मुझे काफी मानसिक परेशानी झेलनी पड़ी थी | सभी से गुजारिश है कि जिन्दगी में कोशिश कर सकें तो जरूर करें ताकि किसी के चहरे पर मुस्कान ला सकें |

5 Likes · 4 Comments · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
समय से पहले
समय से पहले
अंजनीत निज्जर
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
दुष्यन्त 'बाबा'
💐अज्ञात के प्रति-150💐
💐अज्ञात के प्रति-150💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रदीप माहिर
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कवि दीपक बवेजा
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
आखिर शिथिलता के दौर
आखिर शिथिलता के दौर
DrLakshman Jha Parimal
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...