Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 2 min read

संस्कार – कहानी

शर्मा जी के परिवार में माता – पिता के अलावा पत्नी सुधा , और दो बच्चे पंकज और निधि थे | परिवार सभ्य , सुसंस्कृत एवं संस्कारी था | शर्मा जी के दोनों बच्चे भी सुसंस्कृत एवं संस्कारों से पोषित थे | पंकज अभी कक्षा बारहवीं और निधि अभी कक्षा आठवीं में पढ़ रही थी | मंदिर जाना और मदिर में सेवा करना दोनों का रोज का नियम था | कॉलोनी में वृक्षारोपण , कॉलोनी की साफ़ सफाई में भी दोनों का बराबर का योगदान हुआ करता था | पढ़ाई में भो दोनों बच्चे अव्वल आते थे | शर्मा जी की नियमित आय के बारे में घर में सभी भिज्ञ थे | इसलिए फालतू चीजों पर भी खर्च नहीं किया जाता था |
एक बार की बात है पंकज और निधि दोनों स्कूल से वापिस लौट रहे थे | रास्ते में उन्हें सड़क पर एक पड़ा हुआ लिफाफा मिल जाता है | दोनों बच्चे उस लिफ़ाफ़े को उठा लेते हैं और उस पर लिखे पते को पढ़ते हैं | पता उनके घर के काफी दूर का था | फिर भी दोनों बच्चे सबसे पहले घर जाते हैं और अपनी माँ को सारी बात बता देते हैं | घर में सभी बच्चों को कहते है कि पापा के आते ही वे उनके साथ जाएँ और जिसका भी लिफाफा है उसे देकर आयें |
शाम को शर्मा जी घर आते हैं और सारी बात जानकर वे चाय पीने के बाद बच्चों के साथ उस पते पर चल देते हैं | वहां वे उस पते पर पहुंचकर उस पत्र को उन्हें सौंप देते हैं | वे पत्र में लिखी बात जानकार बहुत खुश होते हैं | उस पत्र में बच्चे की नौकरी को ज्वाइन करने का लैटर था | और उस बच्चे को अगले ही दिन वहां ज्वाइन करना था | उस बच्चे के माता – पिता यह जानकार खुश होते हैं कि इन बच्चों को यह पत्र मिला था | वे दोनों बच्चों को ढेर सारा आशीर्वाद देते हैं | और जीवन में हमेशा दूसरों के लिए अच्छा करते रहने के लिए प्रेरित करते हैं | जिस बच्चे का ज्वाइन करने का लैटर था वह शर्मा जी के पैरों पर पड़कर बच्चों द्वारा किये गए श्रेष्ठ कार्य के लिए प्रशंसा करता है और कहता है कि मुझे आज मेरे परिवार के लिए यह नौकरी बहुत ही ज्यादा आवश्यक थी | आपके बच्चों ने मेरी जिन्दगी में बहुत बड़ा योगदान दिया है | आपका शुक्रिया | और इन बच्चों का भी |

इस कहानी के पीछे एक सत्य घटना यह है कि जब मैं नौकरी के लिए कोशिश कर रहा था और मुझे नौकरी की सबसे ज्यादा जरूरत थी तब मेरा नवोदय विद्यालय के लिए इंटरव्यू के लिए पत्र एक सप्ताह बाद पहुंचा था | जिसकी वजह से मुझे काफी मानसिक परेशानी झेलनी पड़ी थी | सभी से गुजारिश है कि जिन्दगी में कोशिश कर सकें तो जरूर करें ताकि किसी के चहरे पर मुस्कान ला सकें |

5 Likes · 4 Comments · 120 Views
You may also like:
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
कुमार विश्वास
Satish Srijan
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
■ नई परिभाषा / "लोकतंत्र"
*प्रणय प्रभात*
✍️ताला और चाबी✍️
'अशांत' शेखर
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
दिल्ली का मर्सिया
Shekhar Chandra Mitra
मन की कसक
पंछी प्रगति
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
बोली है अनमोल
जगदीश लववंशी
बोध कथा। अनुशासन
सूर्यकांत द्विवेदी
उलझनें
Shashi kala vyas
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
धड़कनों की सदा।
Taj Mohammad
वाणी की देवी वीणापाणी और उनके श्री विगृह का मूक...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
देवी माँ के नौ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी संभालना खुद को नहीं आता था, पर ज़िन्दगी ने...
Manisha Manjari
💐संसारस्य संयोगः पान्थसंगम:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी पर लिखी शायरी
Dr fauzia Naseem shad
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
भाग्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
का हो पलटू अब आराम बा!!
Suraj kushwaha
सावन आया
HindiPoems ByVivek
साजन तेरे गाँव का, पनघट इतना दूर
Dr Archana Gupta
Loading...