Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

संस्कारों को भूल रहे हैं

आडंबर की होड़ लगी है
संस्कारों को भूल रहे हैं
गैरों की गलबहियाॅ॑ होकर
मात पिता को भूल रहे हैं-आडंबर की होड़
मानवता का फर्ज निभाते
औरों को नित्य राह दिखाते
चलते-चलते देखो इनको
खुद का रास्ता भूल रहे हैं-आडंबर की होड़
माॅ॑ तड़पे फर्ज नहीं दिखता
पिता भटके फर्क नहीं पड़ता
जिनसे है इनका यह जीवन
कैसे उनको कुछ भूल रहे हैं-आडंबर की होड़
रिश्ते नाते तोड़ के रहना
अपनों से मुॅ॑ह मोड़के रहना
प्रेम अपनत्व मान मर्यादा
कैसे सब कुछ भूल रहे हैं-आडंबर की होड़
चले गए सब छोड़ अकेले
बचपन में जिस गाॅ॑व में खेले
शहरी बाबू दौलतमंद होकर
‘V9द’ क्यों ऐसे फूल रहे हैं-आडंबर की होड़

3 Likes · 3 Comments · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मौलिक विचार
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*प्रणय प्रभात*
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
*शाश्वत जीवन-सत्य समझ में, बड़ी देर से आया (हिंदी गजल)*
*शाश्वत जीवन-सत्य समझ में, बड़ी देर से आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अमीर खुसरो"
Dr. Kishan tandon kranti
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां
मां
Monika Verma
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
**पर्यावरण दिवस **
**पर्यावरण दिवस **
Dr Mukesh 'Aseemit'
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
Loading...