Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

संस्कारों की रिक्तता

संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता ने रिश्तों को शून्य कर दिया है
सुकून, सम्मान, मर्यादा सब कुछ कहीं खो गया है
माता-पिता की सेवा बच्चों का आदर सब कुछ भूल गए हैं हम
रिश्तों में अहंकार और स्वार्थ का वास
परिजनों के लिए अब कोई वक्त नहीं है
रिश्ते बन गए हैं सिर्फ नाम के लिए
बच्चे माता-पिता का आदर नहीं करते
माता-पिता बच्चों का पालन-पोषण नहीं करते
पति-पत्नी में विश्वास और प्रेम नहीं है
रिश्ते बन गए हैं सिर्फ दिखावे के लिए
संस्कारों की रिक्तता ने समाज को खोखला कर दिया है
आओ, हम सब मिलकर संस्कारों को फिर से जगाएं
और अपने रिश्तों को पुनः मजबूत बनाएं

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2442.पूर्णिका
2442.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
राम जैसा मनोभाव
राम जैसा मनोभाव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
पाने की आशा करना यह एक बात है
पाने की आशा करना यह एक बात है
Ragini Kumari
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
#व्यंग्य_कविता :-
#व्यंग्य_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
फूल सी तुम हो
फूल सी तुम हो
Bodhisatva kastooriya
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
... और मैं भाग गया
... और मैं भाग गया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
आज़ादी का जश्न
आज़ादी का जश्न
Shekhar Chandra Mitra
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
" मंजिल का पता ना दो "
Aarti sirsat
मृत्यु भय
मृत्यु भय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
Loading...