Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

* संसार में *

** गीतिका **
~~
हर तरह के लोग हैं संसार में।
किन्तु है आनंद केवल प्यार में।

पास आएं और बतियाएं सहज।
है मजा देखो बहुत इजहार में।

पालना कर्तव्य की कर लें अगर।
है अहं बस कुछ नहीं अधिकार में।

स्वार्थ साधन ही रहा है लक्ष्य निज।
लोग है़ बैठे हुए सरकार में।

फर्क कहने और करने में बहुत।
सब दिखा करता मगर व्यवहार में।

कर रहे हैं सब प्रतीक्षा देखिए।
चाहते जाना सभी उस पार में।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०६/०१/२०२४

1 Like · 1 Comment · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
gurudeenverma198
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
एक दिन !
एक दिन !
Ranjana Verma
जाने बचपन
जाने बचपन
Punam Pande
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
बुद्ध धाम
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
"ढोंग-पसंद रियासत
*Author प्रणय प्रभात*
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*
*"प्रकृति की व्यथा"*
Shashi kala vyas
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
प्रेम विवाह करने वालों को सलाह
Satish Srijan
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जूता
जूता
Ravi Prakash
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"सुर्खियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...