Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 2 min read

संसार का स्वरूप(3)

ये मानव देह भी संसार ही है।संसार के अंतर्गत वे सभी आ जाते है जो नाशवान है।ये देह भी नाशवान है अतः देह और संसार दोनो नश्वर है। हमें जो भी दृश्य जगत दिखाई दे रहा है जो भी सुन, स्पर्श समझ ,या ज्ञानेंद्रियों से अनुभव कर रहे है सब का सब नाशवान है।हुआ क्या है कि इस देह के भीतर जो है, वो देही वो चैतन्य है ,अविनाशी है।देह के मिटने पर भी वो नही मिटता।
उस देही से भूल ये हुई की वो स्वयं के स्वरूप, आत्मस्वरुप की वो चैतन्य का अंश है इस बात को भूल के स्वयं को देह समझ बैठा।ये मुख्य दोष सारे दोषों का कारण है।अब स्वयं को देह मानने से इस देह के संबंधियों को भी अपना मान लिया ।ये मेरी पत्नी है, पुत्र है, पुत्री, माता -पिता ,बहन ,भाई इत्यादि।इसे ही मोह कहते है।वस्तुओं को भी अपना मान लिया ये मेरा घर ,मेरा धन,ये ममत्व है।रुपया पैसा को महत्व दे दिया।स्वयं को देह मानने से इस देह में इतनी ममता हो गई की इस देह को थोड़ा भी कष्ट हो तो दु:खित हो जाता है।साथ ही देह और इन्द्रियों के विषय काम- क्रोध, लोभ- मोह इत्यादि विकारों को भी स्वयं में मानकर लोगो से राग द्वेष कर सुख और दु:ख मान रहा है।यहां ये बात स्पष्ट है की देह सुख और दु:ख का भोक्ता नही बल्कि देही सुख और दु:ख का भोक्ता है क्योंकि उसने देह से तादात्म्य कर लिया है।तादात्म्य माने संबंध जोड़ना। देही है चैतन्य अविनाशी किंतु भूलवश स्वयं को देह मान रहा है।वास्तव में देही भी सुख- दु:ख का भोक्ता नही है क्योंकि अविनाशी को सुख- दु:ख नहीं व्यापता वो तो चैतन्य का अंश होने से सत चित आनंद ही है।उसका स्वरूप आनंदमय ही है।ये तो स्वयं को देह मान लेने से देही
कहा जा रहा है वो तो अक्षर ,अनश्वर, अविनाशी ,आनंद स्वरूप ही है।
क्रमश:…….आगे आत्मस्वरुप पर चर्चा होगी
©ठाकुर प्रतापसिंह राणा
सनावद (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
Tag: लेख
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चील .....
चील .....
sushil sarna
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
नदिया के पार (सिनेमा) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
♥️
♥️
Vandna thakur
बदली मन की भावना, बदली है  मनुहार।
बदली मन की भावना, बदली है मनुहार।
Arvind trivedi
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
विकास सैनी The Poet
"धैर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किस्सा कुर्सी का - राज करने का
किस्सा कुर्सी का - राज करने का "राज"
Atul "Krishn"
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
2984.*पूर्णिका*
2984.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
धरती
धरती
manjula chauhan
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
Loading...