Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

संसद को जाती सड़कें

एक आम आदमी चिल्लाता है
मेरे गाँव की सड़क अभी तक नहीं बनी
घोर उपेक्षा है
दूसरा स्वर में स्वर मिलाता है
वह भी चिल्लाता है
मेरे गाँव की सड़क तो एक बरसात भी नहीं झेल पायी
तीसरा धीरे से बोलता है
ज़रा ठहरो
मुझे समझो
अगले चुनाव में मुझे पहुँचने दो संसद
मैं सबकी आवाज़ उठाऊँगा
सड़कें नयी बनवाऊँगा
निधि अपनी होगी
आदमी भी अपने होंगे
सड़क बनेगी पक्की
यह वादा है
चिल्लाते क्यों हो
तुम्हारी चिल्ल-पों कौन सुनेगा
अपनी हद में रहो
सड़क है
वह टूटेगी ही
सड़कें बनती ही हैं
टूटने के लिए
नहीं टूटेंगी
तो कैसे घोषित होंगी
वादों के पिटारे से
तथाकथित घोषणा-पत्र से ।
एक यक्ष प्रश्न है
आप चलते ही क्यों हैं
सड़क पर
यह भी जान लें
सभी सड़कें रोम नहीं जातीं
न सकुशल पहुँचातीं हैं
आपको घर
पर यह सच है
सभी सड़कें जाती हैं
संसद को
अदृश्य रूप में
जन-प्रतिनिधियों के साथ
अपने मूल स्वरूप में
उनकी जेबों में बैठकर ।

Language: Hindi
6 Likes · 10 Comments · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
अब न करेगे इश्क और न करेगे किसी की ग़ुलामी,
Vishal babu (vishu)
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
#संबंधों_की_उधड़ी_परतें, #उरतल_से_धिक्कार_रहीं !!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
नया जमाना आ गया, रही सास कब खास(कुंडलिया)
नया जमाना आ गया, रही सास कब खास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
Loading...