Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

#संशोधित_बाल_कविता

#संशोधित_बाल_कविता
■ खा ले बच्चा मूंगफली
(केवल वादों की लालीपोप चूस कर खुश हो लेने और अच्छे कल के नाम पर आज बहल जाने वाले बड़े-बूढ़ों और जवानों के लिए)
【प्रणय प्रभात】
“नाना नाना भूख लगी।
खा ले बच्चा मूँगफली।।
मूँगफली में दाना नहीं।
हम किसी के नाना नहीं।।
मामा गया दिल्ली।
वहां से लाया गिल्ली।।
मौसम होगा ठंडा।
तब आएगा डंडा।।
मोड़ी हो या मोड़ा।
सब्र भी कर लो थोड़ा।।
शक़ल बनाओ भोली।
चूसो मीठी गोली।।
😊अभी तो झांसों के लोक में मज़े करो बच्चा। हर बार की तरह।😊
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* कभी दूरियों को *
* कभी दूरियों को *
surenderpal vaidya
अहोभाग्य
अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदनायें
संवेदनायें
Dr.Pratibha Prakash
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"गुलजार"
Dr. Kishan tandon kranti
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
Meenakshi Masoom
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
Phool gufran
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
प्राकृतिक सौंदर्य
प्राकृतिक सौंदर्य
Neeraj Agarwal
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
Loading...