Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2024 · 1 min read

संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां…

सहमी सी है आज कलम,
शब्द उदास हैं खोए-खोए !
जग में कितनी पीड़ाएँ हैं,
आखिर कोई कितना रोए !

मानव ही जब मानव की,
व्यथा समझ न पाता है।
शब्द मिल भी जाएँ, मगर
अर्थ कहीं दब जाता है।
भारी बोझ गमों का इतना,
मन है नाजुक, कैसे ढोए !

बढ़ीं दूरियाँ नेह- नातों में।
तन्हा हैं सभी हसीं रातों में।
संवेदन शून्य हुआ है इन्सां,
अपनत्व कहाँ अब बातों में।
बिखरे मन के मनके सारे,
कौन संजोए, कौन पिरोए !

पल सुख के बस दो चार,
दुखों का है हर सूं अंबार।
मरुभूमि से इस जीवन में,
दहकते शोले और अंगार।
बंजर भाग्य-जमीं पे कोई,
बीज आस के कैसे बोए !

जग प्रपंच है घोर छलावा,
समझ यही बस आता है।
सत्य निकटतर आते-आते,
बीच में कहीं गुम जाता है।
प्रश्न अनुत्तरित खड़े सामने,
तुम्ही कहो कोई कैसे सोए !

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)

4 Likes · 2 Comments · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
👍एक ही उपाय👍
👍एक ही उपाय👍
*प्रणय प्रभात*
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
विशाल अजगर बनकर
विशाल अजगर बनकर
Shravan singh
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
Mohan Pandey
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
वादा
वादा
Bodhisatva kastooriya
राहों में
राहों में
हिमांशु Kulshrestha
मेरा जीने का तरीका
मेरा जीने का तरीका
पूर्वार्थ
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
Shweta Soni
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
"तोड़िए हद की दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
Loading...