Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ

संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थे..!

भीम🤔 सच में महान थे, या महानता थोप दी गई…?

✍️~ SPK Sachin Lodhi

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
kavita verma
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
" यादें "
Dr. Kishan tandon kranti
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
जूते और लोग..,
जूते और लोग..,
Vishal babu (vishu)
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
हमें क़िस्मत ने
हमें क़िस्मत ने
Dr fauzia Naseem shad
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
क्या लिखते हो ?
क्या लिखते हो ?
Atul "Krishn"
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
फितरत
फितरत
Mamta Rani
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*Author प्रणय प्रभात*
होली
होली
Mukesh Kumar Sonkar
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
3318.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3318.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...