Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।

संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
ऊंच नीच की बात मुझे बस केवल लगती फर्जी है।
विश्व गुरू बनने की हसरत मन के अन्दर पाली हो।
सम्यक ज्ञान प्रखर सुख वाली बुद्ध राह की अर्जी है।।

सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

1 Like · 404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
यति यतनलाल
यति यतनलाल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कमल खिल चुका है ,
कमल खिल चुका है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
"पिता है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
Raju Gajbhiye
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
अतीत
अतीत
Neeraj Agarwal
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
"" *हे अनंत रूप श्रीकृष्ण* ""
सुनीलानंद महंत
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
देशभक्ति
देशभक्ति
पंकज कुमार कर्ण
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
जो दूरियां हैं दिल की छिपाओगे कब तलक।
सत्य कुमार प्रेमी
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
अपना अनुपम देश है, भारतवर्ष महान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
"सत्ता व सियासत"
*प्रणय प्रभात*
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
Loading...