Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

संबंधों के नाम बता दूँ

संबंधों के नाम बता दूँ
आप कहो तो काम बता दूँ
बिकने लगे हैं दिल के रिश्ते
कैसे उनके दाम बता दूँ।।

सूर्यकांत

343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
मैं आत्मनिर्भर बनना चाहती हूं
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेरक गीत
प्रेरक गीत
Saraswati Bajpai
शीत .....
शीत .....
sushil sarna
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
VINOD CHAUHAN
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजादी दिवस
आजादी दिवस
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
"शाश्वत"
Dr. Kishan tandon kranti
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*प्रणय प्रभात*
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
Kanchan Khanna
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
फिकर
फिकर
Dipak Kumar "Girja"
जब टूटा था सपना
जब टूटा था सपना
Paras Nath Jha
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
Loading...