Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

संत सनातनी बनना है तो

हिंदी साहित्य प्रेमियों को सादर प्रणाम🙏🙏🙏🙏🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
संत सनातनी बनना हैं तो पुरुषार्थ हमारा जगाना होगा
सारी नदियों के जल का चर्णामृत हमकों पीना होगा
सारी आसुरी शक्तियों को हल्दीघाटी मे लाना होगा
प्यासी रक्त कणिकाओ की प्यास हमे बुझाना होगा
पापियों के धड़ को सिर से अलग हमकों करना होगा
छुपे हुए नागो का सिर अब हमकों कुचलना होगा
भारत माता को जकड़ रखा है इन सर्पिले नागो ने
भारत माता के मस्तक पर रक्त चन्दन लगाना होगा
वीर शिवाजी महाराणा प्रताप जैसा हमकों बनना होगा
संत सनातनी बनना हैं तो पुरुषार्थ हमारा जगाना होगा
सारी नदियों के जल का चर्णामृत हमकों पीना होगा
शांति यज्ञ के पाठ हमने बच्चो को खूब पढ़ा दिये
सत्य अहिंसा भाई चारा जाने क्या क्या ज्ञान दिये
अब तो रक्त उबल रहा हैं सन् सतावंन कि क्रांति का
नही रुकी है नहीं रुकेंगी तलवार झाँसी वाली रानी की
भारत माता को देनी होगी आहुति अपने प्राणो की
संत सनातनी बनना हैं तो पुरुषार्थ हमारा जगाना होगा
सारी नदियों के जल का चर्णामृत हमकों पीना होगा
हर हर महादेव के नारों से कलरव हमको करना होगा
अस्त्र सस्त्र और धनुष बान की पूजा सबको करनी होंगी
ब्रह्मा विष्णु और महेश् कि महा आरती करनी होगी
शंख बजा कर बिगुल बजा दो घंटों और करताल से
गद्दारो को सबक सिखा दो ताकत कि भरमार से
संत सनातनी बनना हैं तो पुरुषार्थ हमारा जगाना होगा
सारी नदियों के जल का चर्णामृत हमकों पीना होगा
जय हिंद जय भारती
जय सिया राम🙏🙏🙏🙏🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊🥊

Language: Hindi
2 Likes · 479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
3121.*पूर्णिका*
3121.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" दौर "
Dr. Kishan tandon kranti
कबीर ज्ञान सार
कबीर ज्ञान सार
भूरचन्द जयपाल
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
* पिता पुत्र का अनोखा रिश्ता*
पूर्वार्थ
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
संजय कुमार संजू
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
पाँव में खनकी चाँदी हो जैसे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
मेरी प्यारी सासू मां, मैं बहुत खुशनसीब हूं, जो मैंने मां के
मेरी प्यारी सासू मां, मैं बहुत खुशनसीब हूं, जो मैंने मां के
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
अहसासे ग़मे हिज्र बढ़ाने के लिए आ
Sarfaraz Ahmed Aasee
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
Loading...